# हमारी गलती थोडी है(शायरी)

तुम्हे मौका दिया था हमने वापस लौट आने का
तुम मुडे नही तो हमारी गलती थोडी है ?
मोहब्बत के बदले सौदा कर लिया था तुमने कागज के नोटों से
अगर सौदा उलटा पड गया, तो इसमें हमारी गलती थोडी है ?

प्यार मोहब्बत जज्बातों सें जुडी है
इसमे तुम औकात लेके आएँ, हमारी गलती थोडी है ?
आज तुमसे ही पुछते है,” बताओ क्या है तुम्हारी औकात?”
ये सब तुमसे ही सीखा है हमारी गलती थोडी है ?

राणी की तरह तुम्हे रखने के ख्वाब देखे थे हमने
तुम्हें पैसो का गुलाम बनना पसंद था, हमारी गलती थोडी है ?
तुम्हारा वो पुराना महल हमें झोपडी जैसा लगता है अब
तुम तो हमारे गुलाम बनने के भी काबिल नही, हमारी गलती थोडी है  ?

प्यार में नही देखी जाती किसीकी हैसियत कभी
प्रकृती की देन है ये मजाक थोडी है ?
पैसों के सामने न हारने देना इश्क  को कभी
वरना आपका मेहबूब कहेगा , इसमे मेरी गलती थोडी है?

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: